Monday, July 28, 2014

Tulsi Bal Pocket Books (तुलसी बाल पॉकेट बुक्स)


तुलसी बाल पॉकेट बुक्स मैं ज्यादातर एस.सी.बेदी जी द्धारा लिखित पुस्तकें प्रकाशित होती थी जो देशभक्ति रास से सराबोर होती थी! 30.8.1993 को एस.सी.बेदी जी का तुलसी पॉकेट बुक्स से अनुबंध हुआ था जिसके अनुसार उनकी लिखित पॉकेट बुक्स तुलसी पॉकेट बुक्स मैं प्रकाशित होनी शुरू हुई! यह पॉकेट बुक्स कुछ पत्रों के इर्द गिर्द घूमती थी जिनमे प्रमुख हैं राजन, इक़बाल, शोभा, सलमा, नफीस मियां, सूरज, धीरज और इंस्पेक्टर बलबीर! एक सेट में 9 पॉकेट बुक्स आती थी! तुलसी बाल पॉकेट बुक्स में अब तक मुझे प्राप्त जानकारी के अनुसार काम से काम 5 सेट यानी की 45 पॉकेट बुक्स तो अवश्य प्रकाशित हुई हैं!



Sl. No.NameAvailability
1.अजग़र Hard Copy
2.अजग़र का रहस्य Hard Copy
3.लाशों का जंगल Hard Copy
4.फूलों का रहस्य Hard Copy
5.देवी की मौत Hard Copy
6.खौफनाक वैज्ञानिक Hard Copy
7.उल्लू का आतंक Hard Copy
8.उल्लू आ गया Hard Copy
9.आग के शैतान (साहसिक)Hard Copy
10.खूबसूरत नागिन Hard Copy
11.नागिन का नाच Hard Copy
12.खौफनाक आँख Hard Copy
13.आँख का तमाशा Hard Copy
14.हार का हंगामा Hard Copy
15.विनाश लीला Hard Copy
16.लाल ग्रह की रानी Hard Copy
17.ग्रहों की जंग Hard Copy
18.घाटी की मौत (साहसिक)Hard Copy
19.मौत का खेल Hard Copy
20.मौत की छाया Hard Copy
21.रौशनी के साये Hard Copy
22.लोहे का दैत्य Hard Copy
23.खूबसूरत क़त्ल Hard Copy
24.खौफनाक जंगल Hard Copy
25.जंगल का शहजादा Hard Copy
26.अग्नि मंदिर Hard Copy
27.बर्फीले प्रेत (साहसिक)
28.रंगीन बन्दर Hard Copy
29.बन्दर का रहस्य
30.रहस्यमय घाटी
31.खूनी आतंक
32.बारूद
33.कमरे का रहस्य
34.मौत के सितारे Hard Copy
35.स्वर्ग की अप्सरा
36.डेंजरलैंड (साहसिक)
37.राकेट स्टेशन
38.राकेट स्टेशन की तबाही
39.जिन्न Hard Copy
40.जिन्नों का रहस्य
41.हवा के पुजारी
42.हत्यारा कौन Hard Copy
43.वो शैतान Hard Copy
44.उड़ती राइफल
45.दुम तारा (साहसिक)Hard Copy


उपरोक्त जानकारी के अतिरिक्त अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो कृपया जरूर बताएं!



2 comments:

bhawna singh said...

from where i can buy these books???

Anupam Agrawal said...

Though hard to get. These books can still be obtained from old book sellers or helping resourceful collectos. You cab try facebook groups functioning gor selling old books.